रविवार, सितंबर 28, 2008

पायो निधि राम नाम

पायो निधि राम नाम।
सकल शांति सुख निधान।

सिमरन से पीर हरे ।
काम क्रोध मोह जरे।
आनन्द रस अजर झरे ।
होवे मन पूर्ण काम।
पायो निधि ...

रोम रोम बसत राम।
जन जन में लखत राम ।
सर्व व्याप्त ब्रह्म राम ।
सर्व शक्तिमान राम।
पायो निधि ...

ज्ञान ध्यान भजन राम ।
पाप ताप हरन नाम।
सुविचारित तथ्य एक ।
आदि अंत राम नाम।
पायो निधि ...

अशरन के शरन राम।
दारिद दुख हरन राम ।
अतिशय शुभ करन नाम ।
राम राम राम राम।
पायो निधि राम नाम ...
एक टिप्पणी भेजें