रविवार, सितंबर 28, 2008

सब दुखियों का सहारा है

मेरा राम सब दुखियों का सहारा है।

उसके पास दौड़ वह जाता
जो आरत जन उसे बुलाता।
गीध अजामिल गज गणिका को
उसने पार उतारा है।
वह सब दुखियों का सहारा है ...

देश-विदेश जहाँ जो रहता
प्रभु सबकी ही रक्षा करता।
सब प्राणी हैं उसको प्यारे
वह सबका रखवारा है।
वह सब दुखियों का सहारा है ...

सब पर सुख की वर्षा करता
दुखियों के सारे दुख हरता।
पतित जनों को पावन करता
केवल राम हमारा है।
वह सब दुखियों का सहारा है ...

सबकी नैया पार करेगा
सबके सारे कष्ट हरेगा।
वह सबका उद्धार करेगा
यह विश्वास हमारा है।
वह सब दुखियों का सहारा है ...
एक टिप्पणी भेजें