मंगलवार, अक्तूबर 13, 2015

भजन: जगदम्बिके जय जय जग जननी माँ

bhajan: jagadambike jay jay jaga janani maa

सरस सुपावन शक्ति हे ...तेजोमयी  अपार
हे आनंद स्वरूपणी....मम  हृदय कर उज्जियार
जय माँ .....जय माँ ....

अराधन तेरा करूं ...निशदिन ,आठों याम
घट अंतर शक्ति जगे ...गाऊं तब शुभ नाम
जय माँ .....जय माँ ....

पत्तित-पावनी मात हे ....बालक शरण तिहार
मंगलमय  वरदान दे ..यही विनती बारम्बार ..
जय माँ .....जय माँ ..



जगदम्बिके जय जय जग जननी माँ 
एक टिप्पणी भेजें