शुक्रवार, अगस्त 21, 2015

भजन : हरि को नामु सदा सुखदाई

bhajan - hari ko nam sada sukhdai

Click here to listen to the bhajan by Shri Jagannath Prasad Ji

हरि को नामु सदा सुखदाई ॥
जाको सिमरि अजामिल तरियो गनिका हू गति पाई ॥

पांचाली को राज सभा में राम नाम सुधि आई ॥
ताको दुःख हरयो करुणामय, अपनी पैज बढाई ॥

जेहि नर जसु कृपानिधि गायो ता को भयो सहाई ॥
कहु नानक मै यही भरोसो आन गयो शरनाई ||
एक टिप्पणी भेजें