शुक्रवार, सितंबर 04, 2015

भजन: खुद तो बाहर ही खड़े रहे

bhajan: khud to bahar hi khade rahe

Click here to listen to the bhajan 
tune - Shri Jagannath Prasad Ji Shrivastava
voice - Sau. Krishna Kumari Shrivastava
Introduction by Justice Shiv Dayal Ji Shrivastava
The last few lines of the bhajan are in the voice of Sau. Sunita  Shrivastava .

महाभारत का एक प्रसंग है, एक दिन दुर्योधन ने भीष्म पितामह को बहुत बुरा-भला कहा . उन्होंने आवेश में आकर प्रतिज्ञा की कि कल पाँचो पाण्डवों को मार दूँगा. 

उसके बाद क्या होता है , ये बहूरानी से सुनिए गीत :

खुद तो बाहर ही खड़े रहे, भीतर भेजा पांचाली को;
यतिवर बाबा के चरणों में, जाकर अपना मस्तक रख दो ।

अर्धरात्रि की बेला में, भीषम की लगी समाधी थी;
मन प्रभु चरणों में लगा हुआ, उस जगह न कोई व्याधा थी ।

कृष्णा ने जाकर सिर रक्खा, चरणों पर भीष्म पितामह के;
चरणों पर कौन झुका, देखूँ, बाबा भीषम एकदम चौंके ।

देखा एक सधवा नारी है, चरणों पर शीश झुकाती है;
उसके तन की रंगी साड़ी, सधवापन को दर्शाती है ।

आशीर्वाद मुख से निकला, सौभाग्यवती भव हो बेटी;
तेरे हाथों की मेहंदी का न रंग कभी छूटे बेटी ।

सौभाग्य तुम्हारा अचल रहे, सिन्दूर से मांग न खाली हो;
वर देता हूँ तुझको बेटी, तू वीर कुमारों वाली हो ।

सुनकर कृष्णा ने तुरत कहा, बाबा ये क्या बतलाते हो;
कल और आज कुछ और कहा, तुम सत्यव्रती कहलाते हो ।

मेहंदी का रंग तो रहने दो, साड़ी का रंग उड़ाओ ना;
सिन्दूर जो मेरी मांग का है, बाणों से उसे छुड़ाओ ना ।

मेरे पाँचों पतियों में से, यदि एक भी मारा जायेगा;
आशीर्वाद तेरा बाबा, क्या झूठा नहीं कहायेगा ।

तब आया होश पितामह को, हाथों से माला छूट गई;
मन प्रभु चरणों में लगा हुआ, चितचोर समाधी टूट गई ।

बोले बेटी इन प्रश्नों का उत्तर पीछे दे पाउंगा;
तेरे सुहाग का निर्णय भी मैं पीछे ही कर पाउंगा ।

एक बात खटकती है मन में, हैरान है जिसने कर डाला;
बतला बेटी, वह कहाँ छिपा, इस जगह तुझे लाने वाला ।

बेटी तूने मेरे कुल को, इतना पवित्र कर डाला है;
पहरा देता होगा तेरा, जो विश्व रचाने वाला है    ।

बूढ़ा होने को आया है, पर अब भी गई नहीं चोरी;
नित नई नीतियाँ चलता है, तुमसे चोरी, मुझसे चोरी ।

बाहर आकर के जो देखा, ड्योढ़ी का दृश्य निराला था;
पीताम्बर का घूंघट डाले, वो खड़ा बांसुरी वाला था ।

चरणों से जाकर लिपट गये, छलिया छलने को आया है;
भक्तों की रक्षा करने को, दासी का वेष बनाया है ।

*

कहते हैं द्रौपदी का जूता था, पीताम्बर के कोने में;
उर में करुणा का भार लिये थे लगे पितामह रोने में ।   

हे द्रुपद सुता, मेरी बेटी, अब जाओ विजय तुम्हारी है;
पतियों का बाल न बाँका हो, जब रक्षक कृष्ण मुरारी हैं ।

जब रक्षक कृष्ण मुरारी हैं, भव भय भंजन भय हारी हैं;
जब रक्षक कृष्ण मुरारी हैं, भव भय भंजन भय हारी हैं ।

_________________________________

khud to bAhar hI kha.De rahe, bhItar bhejA pAMchAlI ko;
yativar bAbA ke charNoM meM, jAkar apnA mastak rakh do |

ardharAtri kI belA meM, bhISham kI lagI samAdhI thI;
man prabhu charNoM meM lagA huA, us jagah na koI vyAdhA thI |

kR^iShNA ne jAkar sir rakkhA, charNoM par bhIShm pitAmah ke;
charNoM par kaun jhukA, dekhU.N, bAbA bhISham ekdam chauMke |

dekhA ek sadhvA nArI hai, charNoM par shIsh jhukAtI hai;
uske tan kI raMgI sA.DI, sadhavApan ko darshAtI hai |

AshIrvAd mukh se niklA, saubhAgyavtI bhav ho beTI;
tere hAthoM kI mehaMdI kA na raMg kabhI ChUTe beTI |

saubhAgy tumhArA achal rahe, sindUr se mAMg na khAlI ho;
var detA hU.N tujhko beTI, tU vIr kumAroM vAlI ho |

sunkar kR^iShNA ne turat kahA, bAbA ye kyA batlAte ho;
kal aur Aj kuCh aur kahA, tum satyavratI kahlAte ho |

mehaMdI kA raMg to rahne do, sA.DI kA raMg u.DAo nA;
sindUr jo merI mAMg kA hai, bANoM se use Chu.DAo nA |

mere pA.NchoM patiyoM meM se, yadi ek bhI mArA jAyegA;
AshIrvAd terA bAbA, kyA jhUThA nahIM kahAyegA |

tab AyA hosh pitAmah ko, hAthoM se mAlA ChUT gaI;
man prabhu charNoM meM lagA huA, chitchor samAdhI TUT gaI |

bole beTI in prashnoM kA uttar pIChe de pAuMgA;
tere suhAg kA nirNay bhI maiM pIChe hI kar pAuMgA |

ek bAt khaTaktI hai man meM, hairAn hai jisne kar DAlA;
batlA beTI, vah kahA.N ChipA, is jagah tujhe lAne vAlA |

beTI tUne mere kul ko, itnA pavitr kar DAlA hai;
pahrA detA hogA terA, jo vishv rachAne vAlA hai    |

bU.DhA hone ko AyA hai, par ab bhI gaI nahIM chorI;
nit naI nItiyA.N chaltA hai, tumse chorI, mujhse chorI |

bAhar Akar ke jo dekhA, Dyo.DhI kA dR^ishy nirAlA thA;
pItAmbar kA ghUMghaT DAle, vo kha.DA bAMsurI vAlA thA |

charNoM se jAkar lipaT gaye, ChaliyA Chalne ko AyA hai;
bhaktoM kI rakShA karne ko, dAsI kA veSh banAyA hai |

*

kahte haiM draupdI kA jUtA thA, pItAmbar ke kone meM;
ur meM karuNA kA bhAr liye the lage pitAmah rone meM |

he drupad sutA, merI beTI, ab jAo vijay tumhArI hai;
patiyoM kA bAl na bA.NkA ho, jab rakShak kR^iShN murArI haiM |

jab rakShak kR^iShN murArI haiM, bhav bhay bhaMjan bhay hArI haiM;
jab rakShak kR^iShN murArI haiM, bhav bhay bhaMjan bhay hArI haiM |

___________________________________________

This bhajan was the first in our series 'Bhajan on Demand' initiated by requests from dear Jyoti - Sau. Dr. Jyotsna Nigam. Efforts by various family members have made this possible.

Thanks to Sau. Dr. Krishna Shrivastav for the audio files, Shri Atul Shrivastava for the transcribed lyrics. The audio has been converted from old cassettes and two versions have been edited and spliced together to complete the song.


Atul Dada writes: "This bhajan/ poem appeared many many years back in one of the volumes  (अंक) of  "कल्याण"  पत्रिका. On demand of Tauji, Babu had composed its dhun. We sing it in the same dhun today. Just close your eyes while singing this bhajan and we will get परमानन्द. This is my experience, by God's Grace."

एक टिप्पणी भेजें