बुधवार, दिसंबर 26, 2012

भजन - जागो मोहन प्यारे

जागो मोहन प्यारे, जागो जागो

जागो बंसीवारे ललना
जागो मोरे प्यारे ..

रजनी बीती भोर भयो है
घर घर खुले किवाड़े .
गोपी दही मथत सुनियत है
कंगना की झनकारे ..

उठो लालजी भोर भयो है
सुर नर ठाड़े द्वारे .
ग्वालबाल सब करत कोलाहल
जय जय शब्द उचारे ..

माखन रोटी हाथ में लीजे
गौअन के रखवारे .
मीरा के प्रभु गिरिधर नागर
शरण आया को तारे ..

Listen to MP3 Bhajan
एक टिप्पणी भेजें