सोमवार, जुलाई 06, 2015

भजन: जो घट अंतर हरि सुमिरे

bhajan: jo ghat antar hari sumire

जो घट अंतर हरि सुमिरै .
ताको काल रूठि का करिहै
जे चित चरन धरे ..
हरि सुमिरे

राम सिया राम जय जय राम सिया राम

सहस बरस गज युद्ध करत भयै
छिन एक ध्यान धरै .
चक्र धरै वैकुण्ठ से धायै
बाकी पैंज सरे  ..
हरि सुमिरे

राम सिया राम जय जय राम सिया राम

जहँ जहँ दुसह कष्ट भगतन पर
तहं तहँ सार करै .
सूरजदास श्याम सेवै ते
दुष्तर पार करे ..
हरि सुमिरे

राम सिया राम जय जय राम सिया राम

जो घट अंतर हरि सुमिरै .
ताको काल रूठि का करिहै
जे चित चरन धरे ..
हरि सुमिरे

राम सिया राम जय जय राम सिया राम

Listen to the bhajan sung by
VNS Bhola, Santu Shrivastav, Madhav Mukund, Krishna, Shanta, Anjana, Meghna, Prarthana
( भोला , माधव, सतू , कृष्णा, शांता ,अंजना , मेघना ,प्रार्थना आदि द्वारा प्रस्तुत सूरदास जी का भजन )
from BholaKrishna Youtube Channel
एक टिप्पणी भेजें