मंगलवार, नवंबर 10, 2009

भजन - दीनबन्धु दीनानाथ, मेरी तन हेरिये

Dinabandhu Dinanath - MP3 Audio
By Shri V N Shrivastav 'Bhola'

दीनबन्धु दीनानाथ, मेरी तन हेरिये ॥

भाई नाहिं, बन्धु नाहिं, कटुम-परिवार नाहिं ।
ऐसा कोई मीत नाहिं, जाके ढिंग जाइये ॥

खेती नाहिं, बारी नाहिं, बनिज ब्योपार नाहिं
ऐसो कोउ साहु नाहिं जासों कछू माँगिये ॥

कहत मलूकदास छोड़ि दे पराई आस,
रामधनी पाइकै अब काकी सरन जाइये ॥
एक टिप्पणी भेजें